पटौदी और हेलीमंडी के अधिकारियों को सुनाई खरी खरी

एमएलए जरावता का हेलीमंडी में खुला दरबार आयोजित

लापरवाह अधिकारियों के खिलाफ 133 के तहत होगी कार्रवाई

फतह सिंह उजाला
पटौदी ।
 पटौदी विधानसभा क्षेत्र के हेलीमंडी नगरपालिका इलाके में मार्केट कमेटी कार्यालय परिसर में शुक्रवार को विधायक एडवोकेट सत्य प्रकाश जरावता के द्वारा जन समस्याओं के समाधान के लिए खुले दरबार का आयोजन किया गया । इस मौके पर पटौदी के एसडीएम ने विभिन्न विभागों के अधिकारियों की जमकर क्लास ली । अपने ही अंदाज में दो टूक शब्दों में साफ-साफ चेतावनी भी दे दी गई । एसडीएम  राजेश कुमार प्रजापत में दो टुक साफ शब्दों में विभिन्न विभागों के अधिकारियों को उनकी जिम्मेदारी का एहसास कराते हुए आगाह किया कि जो भी शिकायत उनके पास आए बिना किसी बहाने बाजी के उसका समाधान करना अधिकारी का दायित्व है । फिर भी यदि शिकायत का समाधान नहीं होने पर एसडीएम के पास शिकायत पहुंचती है तो संबंधित अधिकारी के खिलाफ सीआरपीसी की धारा 133 के तहत सीधी कार्यवाही की जाएगी ।
एसडीएम राजेश प्रजापत में अधिकारियों को खरी-खरी सुनाते हुए कहा कि क्या एमएलए साहब खुद झाड़ू उठाएंगे ? उन्होंने कहा सीवर, पानी, बिजली से संबंधित किसी भी प्रकार की शिकायत समाधान के लिए इन विभागों के अधिकारियों के पास पहुंचे तो यथाशीघ्र उसका समाधान होना चाहिए । एसडीएम राजेश प्रजापत ने कहा कि सभी अधिकारी सीआरपीसी की धारा 133 से 145 को अच्छी तरह से समझ लें और पढ़ ले । अपने संबोधन के दौरान ही एसडीएम राजेश प्रजापत ने विधायक जरावता की तरफ इशारा करते हुए कहा कि लापरवाह अधिकारियों के खिलाफ 133 के तहत कार्यवाही की जाने पर उनकी तरफ से तो कोई दखल नहीं  रहेगा ?  इस मौके पर लगभग 30 शिकायतें पहुंची , जबकि यह खुला दरबार विशेष रूप से हेलीमंडी नगर पालिका क्षेत्र के विभिन्न वार्डों में समस्याओं के समाधान के दृष्टिगत ही लगाया गया था।  लेकिन फिर भी आसपास के ग्रामीण अंचल से भी यहां आम जनता अपनी अपनी परेशानी और शिकायतें लेकर पहुंची । इस मौके पर एसीपी पटौदी ,जलापूर्ति एवं अभियांत्रिकी विभाग के एसडीओ ,नायब तहसीलदार, हेलीमंडी पालिका सचिव , मार्केट कमेटी सचिव सहित अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे ।
इस मौके पर विधायक सत्य प्रकाश जरावता ने कहा की अधिकारी अपनी जिम्मेदारी को समझें और अपने अपने अधिकार क्षेत्र की समस्याओं का बिना किसी बहाने बाजी के समाधान किया जाए । इसी मौके पर एसडीएम राजेश प्रजापत ने शिकायतों के साथ साथ मौके पर पहुंचे लोगों की संख्या को देखते हुए उपस्थित अधिकारियों की क्लास लेते हुए कहा कि लापरवाह अधिकारियों के कारण ही एमएलए साहब को यह खुला दरबार लगाने के लिए मजबूर होना पड़ गया है । यदि अधिकारी अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए जनता की शिकायतों का समाधान करते रहते तो आज ही है नोबत नहीं आती कि इस प्रकार से खुला दरबार लगाया जाता । उन्होंने विशेष रूप से जलापूर्ति एवं अभियांत्रिकी विभाग पेयजल आपूर्ति और बिजली विभाग के अधिकारियों को आपस में तालमेल बनाकर रखने की नसीहत दी । इसी प्रकार से हेलीमंडी पालिका के सचिव से लेकर जेई तक को आगाह किया गया की छोटी-छोटी शिकायतें नाली रुकना , सीवर रुकना, गली में पानी भरना, सीवर ओवरफ्लो होना, इस प्रकार की शिकायतें भविष्य में एसडीएम ऑफिस तक नहीं पहुंचनी चाहिए । यदि ऐसी शिकायतें पहुंचती हैं तो इसका सीधा और साफ एक ही मतलब है कि अधिकारी काम करने में कोताही कर रहे हैं । इसी बीच विधायक जरावता ने भी अपनी सहमति जाहिर की कि जो अधिकारी काम करने में कोताही अथवा लापरवाही बरत रहा है वह अपना किसी और स्थान पर तबादला करवा ले, अन्यथा कठोरतम कार्रवाई की जाएगी ।

फिर से उछला कूड़ा डंपिंग मामला
हेलीमंडी के मिर्जापुर रोड पर वार्ड 7 और 8 के बीच में तरुण त्रिवेणी स्थल पर पालिका प्रशासन के द्वारा डाला जा रहा कूड़ा के विरोध में स्थानीय महिलाओं का दल एक बार फिर कूड़ा डालने के विरोध में विधायक और एसडीएम के सामने आ डटा । महिलाओं ने याद दिलाया, डीसी, एसडीएम सहित स्थानीय प्रशासन को शिकायतें दी जा चुकी हैं । इस पर विधायक जरावता  ने हेलीमंडी पालिका सचिव को सख्त आदेश दिए कि हेलीमंडी में अलग-अलग पांच स्थानों पर कूड़ा डंपिंग की व्यवस्था की जाए । जब तक यह व्यवस्था नहीं होती है वार्ड 8 और 7 के तरुण त्रिवेणी स्थल में जो भी कोई निर्माण कार्य हो रहा है, वह अविलंब रोक दिया जाए।

फिर उठा सीनियर सेकेंडरी स्कूल का मुद्दा
यहां खुले दरबार में विधायक जरावता के सामने एक बार फिर से हेलीमंडी पालिका क्षेत्र में लड़कों के लिए सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल का मुद्दा जोर-शोर से उठाया गया । इस पर विधायक जरावता ने कहा कि यह मामला उनके संज्ञान में हैं और यहां जटौली-हेलीमंडी क्षेत्र में जो सकूल हैं , वह सकूल अपग्रेडेशन की शर्तों को पूरा करने में सक्षम नहीं है । हेलीमंडी एकमात्र ऐसा पालिका क्षेत्र है जहां पर लड़कों की सरकारी शिक्षा के लिए आठवीं से आगे स्कूल की सुविधा नहीं है। स्कूल के मुद्दे को शिक्षा मंत्री के सामने उठाया गया है , उन्होंने भरोसा दिलाया कि हेलीमंडी में लड़कों की प्लस टू तक सरकारी शिक्षा के लिए स्कूल अवश्य की सुविधा उपलब्ध होगी । उन्होंने कहा की अपने कार्यकाल के दौरान पटौदी विधानसभा क्षेत्र में इस प्रकार से ढांचागत व्यवस्था करना है, जिसका लंबे समय तक आम लोगों को लाभ मिलता रहे। उन्होंने कहा की हेली शब्द हटाकर उनका प्रयास है पटौदी जाटोलीमंडी एक सांझा नगर परिषद बनाया जाए और इतना ही नहीं उनका लक्ष्य पटौदी को जिला बनाने का है ।  इस बात के गंभीर प्रयास जारी रहेंगे कि अपने कार्यकाल के दौरान सरकार से पटौदी को जिला बनाने की घोषणा करवा दी जाए। जिससे कि इस इलाके के आम लोगों को हर प्रकार की सुविधा उपलब्ध हो सकेगी ।
और नया पुराने