मनीषबलवान सिंह जांगड़ा, हिसार
कोरोना महामारी और टिड्डी दल से पीड़ित किसानों को हरियाणा सरकार ने बड़ी राहत देने का फ़ैसला किया है। सरकार ने किसानों को राष्ट्रीयकृत बैंकों से ब्याज मुक्त कर्ज़ देने की घोषणा की है। रविवार को हरियाणा सरकार की कैबिनेट की बैठक में ये फ़ैसला लिया गया जिससे प्रदेशभर के लाखों किसानों को फ़ायदा होगा।

पहले सिर्फ़ सहकारी बैंकों से कर्ज़ मिलता था।

किसानों को ब्याज़ मुक्त कर्ज़ की सुविधा सिर्फ़ सहकारी बैंकों में मिलती थी जिसकी सीमा डेढ़ लाख थी। लेकिन सरकार ने किसानों को किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक से ब्याज़ मुक्त कर्ज़ लेने की सुविधा देने का फैसला लिया है। सरकार के फ़ैसले के बाद किसान किसी भी सहकारी या राष्ट्रीयकृत बैंक से प्रति एकड़ 60 हज़ार व अधिकतम तीन लाख रुपये तक का फ़सली कर्ज़ या ऋण ले सकतें हैं।

'मेरी फसल मेरा ब्यौरा' पोर्टल पर जानकारी देनी होगी।

डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने रविवार को प्रदेश सरकार के फैसले की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की कैबिनेट ने किसानों के हित में इस प्रस्ताव को पास करवाया है। इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए किसी भी किसान को मेरी फ़सल मेरा ब्यौरा पर यह जानकारी देनी होगी कि उसने सहकारी बैंक से कितना कर्ज़ लिया है। इसके साथ ही कर्ज़ को निर्धारित समय में चुकाना भी होगा। खरीद फ़सल की अदायगी सीधे उस संस्था के खाते में जमा करवाई जाएगी जिस संस्था से उसने कर्ज़ लिया है। उन्होंने आगे बताया की किसानों के जोख़िम को कम करने व नवीन तथा आधुनिक उपकरण के इस्तेमाल को प्रोत्साहित करने के लिए ये स्किम तैयार की गई है।
और नया पुराने