पटौदी रेलवे स्टेशन के पास जोहड़ में मिला था शव

मृतक के शरीर पर नहीं है किसी चोट के निशान

मधुबन की रिपोर्ट से होगा हत्याकांड का खुलासा

फतह सिंह उजाला
पटौदी ।
  पटौदी रेलवे स्टेशन के पास ही रेलवे ओवरब्रिज के निकट हेलीमंडी क्षेत्र के वार्ड 15 में गंदे पानी के जोहड़ में मिले शव की हत्या की गुत्थी अभी नहीं सुलझ सकी है । इस मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है । इस बात की पुष्टि पटौदी जीआरपी चैकी प्रभारी भूपेंद्र सिंह के द्वारा की गई है । उन्होंने बताया कि जिन हालात में मृतक का शव मिला है, वह सीधा सीधा हत्या का मामला है । इतना ही नहीं हत्या करके शव को खुर्द-बुर्द करने की भी कोशिश की गई । इसलिए भादस की विभिन्न धाराओं के तहत अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है और पुलिस अलग-अलग एंगल से इस मामले की जांच कर रही है ।

गौरतलब है कि शुक्रवार को सुबह पटौदी रेलवे स्टेशन के नजदीक हेलीमंडी पालिका क्षेत्र में ही रेलवे ओवर ब्रिज के पास जोहड़ में एक अज्ञात व्यक्ति का शव मिला था । इस शव के साथ में भारी भरकम तीन पत्थर भी बांधे हुए थे । शव को पोस्टमार्टम करवाकर इसकी पहचान के लिए गुरुग्राम मोर्चरी में रखवा दिया गया है। आरंभिक तौर पर आसपास के लोगों से और कॉलोनी-बस्तियों में भी पूछताछ सहित जानकारी ली गई कि कोई व्यक्ति गायब तो नहीं है । लेकिन ऐसी कोई जानकारी बाहर निकलकर नहीं आ रही है।

हड़बड़ी में हत्या की आशंका
रेलवे स्टेशन और रेलवे लाइन के साथ जोहड़ के अंदर जिन हालात में मृतक का शव मिला है और भारी-भरकम तीन पत्थर शव के साथ बंधे हुए मिले उन्हें देखते हुए इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि यह पूर्व नियोजित हत्या नहीं है । बलिक हड़बड़ी में हत्या की गई है । मृतक कौन था अभी तक इसकी पहचान नहीं हो सकी है । पुलिस के द्वारा आसपास के थाना क्षेत्रों में भी सूचना दे दी गई है। जोहड़ के साथ ही रेलवे ट्रैक भी है रेलवे ट्रैक के साथ ही पत्थर तोड़े जाने के संकेत मिले हैं । ऐसे में इस बात से इंकार नहीं की युवक को यहां लाकर पत्थर बांधकर शव सहित उसकी पहचान छिपाने के लिए ही जोहड़ में फेंक दिया गया ।

एक से अधिक हत्यारों की आशंका
इसी मामले में पुलिस का साफ-साफ मानना है कि युवक की निश्चित तौर से हत्या की गई है । अब युवक की मौत पानी में डूबने से हुई या पहले ही हो चुकी थी यह खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट बिसरा की रिपोर्ट आने के बाद ही होगा । पुलिस सूत्रों के मुताबिक जिस प्रकार से तीन पत्थर बांधे गए हैं , वह हड़बड़ी में ही किया जाने का संकेत दे रहे हैं । यदि पूर्व नियोजित हत्या किया जाने की योजना होती तो मृतक के हत्यारे पूरी तैयारी के साथ शव को खुर्द-बुर्द कर सकते थे या शव को शव के साथ पत्थर बांधने के लिए रस्सी या अन्य कोई चीज का भी इस्तेमाल कर सकते थे । लेकिन शव के साथ बंधे पत्थरों में ऐसा कुछ भी दिखाई नहीं दिया । इससे साफ लगता है कि हड़बड़ी में ही यह सारा काम अंजाम दिया गया है ।

रेल ट्रैक पर भी डाल सकते थे
मृतक युवक का जिस स्थान पर शव मिला है और आसपास की जो भौगोलिक स्थिति है ,उससे साफ है कि इस स्थान तक किसी भी प्रकार से वाहन इत्यादि का पहुंचना संभव नहीं है । ऐसे कयास भी लगाए जा रहे हैं कि मृतक यही आसपास कहीं ना कहीं आया हो और किसी भी बात को लेकर के कहासुनी हो गई हो । इसी कहासुनी के अंदर बात बढ़ने के साथ ही युवक को ठिकाने लगा दिया गया । इस बात की संभावना से भी इनकार नहीं की युवक को मरणासन्न स्थिति में रेलवे ट्रैक पर भी डालने की योजना हत्यारों की रही हो । लेकिन लाॅक डाउन के चलते ट्रेनों के आवागमन का कोई समय तय ना होने से हत्यारों ने मृतक के शव को पास के जोहड़ में ही पत्थर बांधकर फेंक दिया और फरार हो गए। 

और नया पुराने