तावडू रोड पर सब्जीमंडी का मामला

रामलीला मैदान पुराने स्थान पर सब्जी मंडी को किया शिफ्ट

ट्रायल तो बहाना है सब्जीमंडी को पुराने ठिकाने पर है लगाना  

विकल्प के तौर पर नई जटौली अनाजमंडी भी विचाराधीन

फतह सिंह उजाला ।
पटौदी ।
 जिला गुरुग्राम में गुरुग्राम सिटी के बाद पटौदी क्षेत्र कोविड-19 का एक प्रकार से हॉटस्पॉट बना हुआ है । बीते कुछ दिनों के आंकड़े पर गौर किया जाए तो हरियाणा में गुरुग्राम अव्वल और गुरुग्राम में पटौदी क्षेत्र कोविड-19 के मामले में आगे चल रहा है । ऐसे में पटौदी शहर में सब्जी मंडी कहां लगाई जाए , कहां नहीं लगाई जाए यह एक नई समस्या बनने लगी है । पटौदी शहर में मार्च माह के दौरान एकाएक और इसके बाद नियमित अंतराल पर पटौदी पालिका क्षेत्र में भी कोविड-19 के मामले लगातार सामने आने को देखते हुए पटौदी तावडू रोड पर लगने वाली सब्जी मंडी को कुछ समय के लिए जाटौली अनाज मंडी में प्रशासन के द्वारा शिफ्ट कर दिया गया था ।

लेकिन यहां अनाज की सरकारी खरीद आरंभ होने के बाद सब्जी आढ़तियोें को अनाज मंडी से भी स्फ्टि होने का फरमान जारी कर दिया गया, पटौदी बस अड्डा विकल्प के तौर पर बताया गया । लेकिन वहां जगह के अभाव में बात नहीं बनी । इसके बाद पटौदी रामलीला कमेटी और पटौदी सब्जी मंडी वेलफेयर एसोसिएशन के बीच हुई बातचीत के बाद मानवीय आधार पर पटौदी रामलीला मैदान सब्जी मंडी के लिए उपलब्ध करवा दिया गया । दोनों पक्षों का यह आपसी सहमति का प्रस्ताव 30 जून को समाप्त हो गया।  अब इसके बाद एक बार फिर से तावडू रोड पर ही सब्जी मंडी में खरीद-फरोख्त का काम चल रहा है। लेकिन कोविड-19 अभी पूरी तरह से नियंत्रण में नहीं आ सका है और नियमित रूप से ब्लॉक में पॉजिटिव मामले सामने आ रहे हैं ।

ऐसे में फिर से तावडू रोड पर ही सब्जी मंडी को आरंभ करने का विचार किया गया और यहां मंडी स्थाई रूप से लगेगी या नहीं लगेगी, इसके लिए 3 दिन के ट्रायल का समय दिया गया । यह ट्रायल प्रशासन के द्वारा इसलिए था कि कोविड-19 के मामलों को देखते हुए खरीद-फरोख्त के लिए आने वाली भीड़ आढ़ती और अन्य लोग सरकार और स्वास्थ्य विभाग के द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का किस हद तक पालन कर रहे हैं । हैरानी तब हुई जब ट्रायल के दौरान ही ट्रायल तार तार होता हुआ दिखाई दे रहा है । तावडू रोड पर जोकि कुलाना-बिलासपुर के बीच में बेहद व्यस्त सड़क मार्ग है के दोनों तरफ सब्जी मंडी लगती है। दोनों तरफ दुकाने हैं और सब्जी की खरीद खरीद फरोख्त सड़क पर ही होती है । ऐसे में यातायात प्रभावित होने के साथ ही अक्सर यहां पर लंबा जाम भी लग जाता है । जाम का विषय अलग है , पहली प्राथमिकता कोविड-19 संक्रमण को प्रशासन के द्वारा रोकना है और इसके लिए सोशल डिस्टेंस के साथ-साथ मास्क या फेस कवर लगाया जाना बहुत जरूरी है ।

एक तरफ तो सरकार के द्वारा रात का कर्फ्यू लगाया गया है, पटौदी रामलीला मैदान में भी 25 अप्रैल के बाद से सब्जी मंडी का समय रात को 8 से 12 बजे तक रखा गया , इस समय को लेकर भी सवाल उठते रहे । बीते करीब 1 सप्ताह से सब्जी मंडी का समय बदलकर सुबह 4 से 8 बजे तक किया गया है । सूत्रों के मुताबिक स्थानीय मार्केटिंग बोर्ड प्रशासन के द्वारा सब्जी आदतियों को लिखित में सूचित किया जा चुका है कि वह सब्जी खरीद फरोख्त का काम जाटौली अनाज मंडी में ही करें । इधर सब्जी आढ़ती और अन्य सब्जी , फल विक्रेता जाटौली अनाजमंडी में सुविधाओं से संतुष्ट नहीं है । इसी मुद्दे को लेकर बुधवार को भी सब्जी आढ़तियों व अन्य फल-फ्रूट विक्रेताओं की बैठक का आयोजन किया गया, बैठक में क्या फैसला हुआ इस बात का तो खुलासा नहीं हो सका ।

लेकिन जो संकेत मिल रहे हैं वह यही कह रहे हैं कि ट्रायल तो कहने मात्र को एक बहाना है , अब पटौदी सब्जी मंडी को पटौदी में तावडू रोड पर ही स्थाई रूप से लगाया जाना है । कथित रूप से तावडू रोड पर जहां सन 1972 से सब्जी मंडी लगती आ रही है , उसी स्थान पर एक बार फिर से सब्जी मंडी लगाने के साथ-साथ सब्जी , फल- फ्रूट की खरीद-फरोख्त का काम निर्बाध रूप से चलता रहे इसकी योजनाबद्ध तरीके से तैयारी की जा चुकी है । इस पूरे प्रकरण में सूत्र भी यही इशारा दे रहे हैं कि जाटौली अनाज मंडी में सब्जी मंडी का लगाना और तावडू रोड पर सब्जी मंडी का ट्रायल के तौर पर इस्तेमाल किया जाना तो मात्र एक औपचारिकता ही है । वही यह दावा तो नहीं किया जा सकता कि एक बार फिर से सब्जी मंडी पटौदी शहर में ही तावडू रोड पर पुराने स्थान पर ही लगेगी,  लेकिन सूत्र प्रबल इशारा कर रहे हैं कि अब जब ट्रायल के तौर पर एक बार सब्जी मंडी में खरीद-फरोख्त का काम शुरू हो चुका है तो यह निर्बाध रूप से ही जारी रहेगा।

वहीं चिंता का विषय यह है कि अभी भी पटौदी ब्लॉक में और पटौदी पालिका क्षेत्र में नियमित रूप से कोविड-19 पॉजिटिव के केस सामने आ रहे हैं । दूसरा विषय और भी गंभीर है कि सब्जी के खरीद-फरोख्त करने वाले मेवात क्षेत्र से भी आते हैं और मेवात में भी लगातार कोविड-19 के मामले सामने आ रहे हैं । मेवात में भी करीब 3 माह से सब्जी मंडी नहीं लगने से वहां के सब्जी विक्रेता आढ़ती भी स्थानीय प्रशासन से नाराज होकर धरना प्रदर्शन तक कर चुके हैं । अब देखना यह है कि जब ट्रायल के दौरान ही  सोशल डिस्टेंस की पालना नहीं की जा रही है, ना करवाई जा रही है तो ऐसे में तावडू रोड पटौदी में सब्जी मंडी का लगना और यह उमड़ने वाली भीड़ का सरकार और प्रशासन के दिशा निर्देशों को नहीं मानना, क्या इस बात की गारंटी दे सकेगा की कोविड-19 संक्रमण के मामले आने वाले समय में नहीं बढ़ेंगे।
और नया पुराने