-कंपनी में 
कॉल करने के बाद ना सामान दिया, ना पेमेंट वापस की
-सीनियर सिटीजन नागरिक ने दी पुलिस को शिकायत
-अब पुलिस भी नहीं कर रही कोई कार्रवाई

गुरुग्राम।
एक सीनियर 
सिटीजन व्यक्ति द्वारा ई-कॉमर्स कंपनी स्नैपडील से ऑनलाइन सामान खरीदा था। इसकी एडवांस में ही उन्होंने कंपनी को पेमेंट कर दी थी। ऑर्डर करने के एक माह बाद ना तो आज तक सामान ही रिसीव हुआ है और ना ही पेमेंट वापस की गई है। पीडि़त बुजुर्ग ने इसकी शिकायत पुलिस को दी, लेकिन पुलिस भी उनके मामले को गंभीरता से नहीं ले रही।  
जानकारी के अनुसार स्थानीय जवाहर नगर निवासी 72 साल के बुजुर्ग पवन कुमार जैन के मुताबिक उन्हें शुगर व ब्लड प्रेशर की बीमारी है। उन्होंने 30 मई 2020 को ई-कॉमर्स कंपनी स्नैपडील की वेबसाइड पर आरके गलूकोकार्ड शुगर टेस्टिंग स्ट्रिप्स ऑर्डर की थी, जिनकी कीमत 1725 रुपए उन्होंने अपने एसबीआई कार्ड से एडवांस ही दे दी थी। कंपनी की तरफ से मैसेज भेजकर डिलीवरी की तारीख 3 जून दी गई थी। कंपनी के कर्मचारी आशीष ने गुरुग्राम के लैंडलाइन नंबर से ही कॉल करके उन्हें कहा गया था कि जल्द ही यह डिलीवरी हो जाएगी। पीडि़त पवन कुमार जैन का कहना है कि आज तक भी स्नैपडील ने ना तो सामान भेजा है ना ही पेमेंट वापस की है। कई बार कंपनी के गुरुग्राम में गोल्फ कोर्स एक्सटेंशन रोड सेक्टर-59 स्थित कार्यालय में 4 जून से कॉल कर रहे हैं, लेकिन कोई ठोस जवाब नहीं दिया जा रहा। श्री जैन के मुताबिक उन्होंने बीते माह 21 जून को कंपनी के खिलाफ पुलिस को भी शिकायत दी है, लेकिन आज तक पुलिस की ओर से भी कोई कार्रवाई नहीं की गई है। उनका कहना है कि पुलिस द्वारा अगर इस तरह से लापरवाही की जाती रही तो फिर पीडि़त लोग कहां जाएंगे। बड़ी-बड़ी कंपनियां इस तरह से लोगों को चूना लगा रही हैं। उनका कहना है कि बात सिर्फ 1725 रुपए की नहीं है, बल्कि बड़े-बड़े दावे करने वाली कंपनियां सीधे तौर पर ठगी कर रही हैं। ऐसे बहुत से लोगों के साथ होता होगा। पुलिस भी इन कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई ना करके उनके इस ठगी को बढ़ावा दे रही है। उन्होंने नवनियुक्त पुलिस कमिश्नर केके राव से कहा है कि वे इस मामले में संबंधित पुलिस थाना को आदेश देकर उन्हें न्याय दिलाएं और ऐसे ठगी करने वाली कंपनी के खिलाफ सख्त एक्शन लें।
और नया पुराने