गौचारे की जमीन का मुद्दा 
एमएलए राकेश ने कहा इस मामले में क्षेत्र की जनता के साथ

सरपंच धर्मपाल हाजीपुर की अध्यक्षता में मिला प्रतिनिधिमंडल

फतह सिंह उजाला
पटौदी।
 नगरपालिका फर्रुखनगर के गौ चारे की 25 एकड़ भूमि पर नगर निगम गुरुग्राम का कूडा डाले जाने को लेकर कस्बा ही नहीं बल्कि क्षेत्र के लोगों में भी भारी रोष व्याप्त है। विरोध स्वरुप पिछले दस दिनों से क्षेत्र के लोग लाम्बंद होकर पंचायते कर रहे है।

सोमवार को पंचायत का 11 सदस्यों का एक प्रतिनिधि मंडल कूडा डाले जाने के विरोध में सरपंच धर्मपाल हाजीपुर की अध्यक्षता में बादशाहपुर के विधायक राकेश दौलताबाद से मिला। विधायक राकेश दौलताबाद ने प्रतिनिधि मंडल को आश्वासन दिया कि वह इस मामले में क्षेत्र की जनता के साथ है। इस विषय पर वह अपने स्तर पर जिला उपायुक्त अमित खत्री व अन्य सम्बंधित अधिकारियों से वार्तालाप कर रहे है। ताकि निगम का कूडा फर्रुखनगर में ना डाला जाये। उन्होंने बताया कि वह इस विषय को लेकर बुधवार को गुरुग्राम नगर निगम गुरुग्राम कमिश्नर विनय प्रताप सिंह से प्रतिनिधि मंडल के साथ खुद बैठक करके इसका हल निकालेंगे। ताकि ताकि क्षेत्र के लोगों को किसी प्रकार की दिक्कतों का सामना न करना पडे। उन्होंने सुझाव दिया कि एक प्रतिनिधि मंडल गुरुग्राम के सांसद एवं केंद्रीय राज्य मंत्री राव इंद्रजीत से भी मिले।


विधायक को दी गई शिकायत में प्रतिनिधि मंडल में शामिल कृष्ण शर्मा पातली, सरपंच धर्मपाल हाजीपुर, सरपंच गोविंद यादव फाजिलपुर, समाज सेवी राव बालकिशन ताजनगर, अधिवक्ता  संदीप यादव, राय सिंह जाटव, फूलचंद जैन,  राज कुमार शर्मा, पूर्व नपा उपाध्यक्ष सुरेश चंद गुरावलिया, राजीव जैन, नरेश शर्मा, काले सैनी, देवदास प्रधान, अजय दौलताबाद, संजू यादव मुबारिकपुर आदि ने बताया कि नगरपालिका फर्रुखनगर के अंर्तगत 25 एकड़ भूमि जो गौ चारे के लिए समय कालीन भूपतियों ने चकबंदी के समय छोडी थी। इसका भूजल मीठा है। जबकि इसके अलावा सारी जगह नमकीन पानी है। इस भूमि पर डिग्री कॉलेज, खेल का मैदान, पार्क, गरीब परिवारों को प्लाट आंवटित करने के अलावा इस भूमि को समतल करके कृषकों को पटटे पर देने कार्य के लिए कई बार प्रयास किये गए। लेकिन सरकार द्वारा गौ चारे की भूमि का हवाला देकर मांग को अस्वीकृत कर दिया गया। इस भूमि में जन स्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी विभाग द्वारा 8 टयूबैल पेयजल के लिए लगर रखे है। जिससे शहर में पेयजल सप्लाई होता था। इसके चारो तरफ आबादी बसी हुई। लेकिन नगर निगम गुरुग्राम इस भूमि पर अपना कूडा कचरा डालने पर तुला हुआ है। निगम द्वारा कूडा डालने के लिए तैयार प्रौजेक्ट के तहत जेसीबी, ट्रैक्टर, ट्राली के माध्यम से कार्य भी शुरु करवा दिया गया है। क्षेत्रवासियों के विरोध के बाद नपा पार्षदों ने जनहित को ध्यान में रखते हुए निगम द्वारा भेजे गए प्रस्ताव  को सर्वसम्मति से अस्वीकार कर दिया। बावजूद इसके भी नगर निगम का कूडा डाले जाने की तलवार शहर पर लटक रही है। उन्होंने कहा कि वह किसी भी सूरत में फर्रुखनगर में किसी बाहरी क्षेत्र क कूडा नहीं डालने देंगे। इसके लिए वह आंदौलन, धरना प्रर्दशन के लिए मजबूर हो सकते है।

और नया पुराने