मनीषबलवान सिंह जांगड़ा, हिसार
मन की बात में देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा की लद्दाख में भारत की जमीन पर आंख उठाने वालों को भारतीय सेना ने क़रारा जवाब दिया है।

मां भारती के गौरव पर आंच नही आने देंगे।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत के वीर सैनिकों ने दिखा दिया है कि भारत अपने गौरव मान पर आंच नही आने देगा पीएम ने कहा, ''हमारे सैनिकों ने दिखा दिया है। अपने वीर सपूतों के बलिदान पर उनके परिवारों का जो जज्बा है वही तो हमारी ताक़त है। भारत मित्रता निभाना जानता है तो आँख में आँख डालकर देखना और उचित जवाब देना भी जानता है। हमारे वीर सैनिकों ने दिखा दिया है कि वो कभी भी माँ भारती के गौरव पर आँच नहीं आने देंगे।''

भारत नई उड़ान भरेगा।

मोदी ने कहा की पड़ोसी देश से जो सीमा विवाद हुआ है उससे देश निपट रहा है। अपने संबोधन में पीएम ने कहा मुझे इस देश के लोगों पर भरोसा है, देश एक नई उड़ान भरेगा। हमारे देश के जो जवान सीमा की रक्षा करते हुए शहीद हुए हैं, उन शहीदों के शौर्य को देश नमन करता है, श्रद्धांजलि दे रहा है। उनके बलिदान का देश कृतज्ञ है। उन्होंने कहा की जिन परिवारों के सपूत शहीद हुए हैं उनके साथ पूरा देश है। उन परिवारों की हिम्मत और देश के लिए जो जज़्बा है- यही तो देश की ताकत है।

शहीद कुंदन कुमार के पिता के शब्द कानों में गूंज रहे हैं।

एलएसी पर चीन के साथ भिड़ंत में देश के 20 जवानों की।शहादत को लेकर प्रधानमंत्री ने कहा," देश के जिन माता-पिता के बेटे शहीद हुए हैं, वे अपने दूसरे बेटों को भी देश की रक्षा के लिए न्योछावर करने के तैयार है, शहीद कुंदन कुमार के पिता के शब्द कानों में गूंज रहें है, जिसमे उन्होंने कहा था कि वो अपने पोतों को भी देश की सेवा के लिए सेना में भेजेंगे। इन शहीद परिवारों का त्याग पूजनीय है"।

भारत अपनी संप्रभुता के लिए प्रतिबद्ध है।

पीएम मोदी ने कहा, ''संकट चाहे जितना बड़ा हो, भारत के संस्कार, निस्वार्थ भाव से सेवा की प्रेरणा देते हैं। आज भारत ने जिस तरह से मुश्किल समय में दुनिया की मदद की, उसे आज शांति और विकास में भारत की भूमिका को और मज़बूत किया है। दुनिया ने इस दौरान भारत की विश्व बंधुत्व की भावना को भी महसूस किया है और इसके साथ ही दुनिया ने अपनी संप्रभुता और सीमाओं की रक्षा के लिए भारत की ताक़त और प्रतिबद्धता को भी देखा है।''


विपक्ष ने पूछा, " कब होगी राष्ट्र रक्षा और सुरक्षा की बात"।
विपक्ष पहले भी भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर प्रधानमंत्री की चुप्पी पर सवाल उठाता रहा है। प्रधानमंत्री ने 15 जून की झड़प के बाद अपने बयान में कहा था की कोई भी भारत में सीमा में नही घुसा है, इसको लेकर विपक्ष ने प्रधानमंत्री पर देश से झूठ बोलने का आरोप लगाया था। 'मन की बात' में मोदी के संबोधन पर राहुल गांधी ने ट्वीट किया, कब होगी राष्ट्र की रक्षा और सुरक्षा को बात"।
और नया पुराने