हेलीमंडी के विभिन्न व्यापारी संगठनों ने किया प्रदर्शन
 
हेलीमंडी के विभिन्न बाजारों से निकला विरोध जुलूस

शिवचरण,पटौदी
हाल ही में लद्दाख में एलएसी पर चीनी सेना के द्वारा किए गए कायराना और धोखे से हमले में शहीद हुए भारतीय सैनिकों के सम्मान और सैनिकों के साथ बऱती गई बर्बरता के विरोध में लोगों का गुस्सा बढ़ता ही जा रहा है । सोमवार को पटौदी क्षेत्र के हेलीमंडी नगर पालिका इलाके में हेलीमंडी के विभिन्न व्यापारिक संगठनों के द्वारा जोरदार विरोध प्रदर्शन किया गया। विभिन्न व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधियों के द्वारा चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग का पुतला फूंका गया। चीनी सामान के भविष्य में बिक्री के बहिष्कार का भी फैसला किया गया ।
सोमवार को हेलीमंडी कपड़ा व्यापार मंडल के अध्यक्ष पवन अग्रवाल रूपलक्ष्मी के नेतृत्व में और संरक्षक मुनिष  रूस्तगी महचानिया के सरंक्षण में हेलीमंडी के विभिन्न व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधियों के द्वारा हेलीमंडी अनाज मंडी ,रामपुर गेट , रामपुर चैराहा , लाइब्रेरी मार्केट से होते हुए विरोध प्रदर्शन करके जुलूस निकाला । इस दौरान प्रदर्शनकारी, चीन की दादागिरी नहीं चलेगी , चीन की कब्र खुलेगी-आज नहीं तो कल खुदेगी,  भारत माता की जय, वंदे मातरम-वंदे मातरम सहित भारतीय सेना के समर्थन में जोरदार नारेबाजी की गई । विरोध प्रदर्शन में मुख्य रूप से लव कुमार ,धर्मपाल अग्रवाल ,अमित कुमार गोल्डी ,रोहित रूस्तगी ,नरेश सैनी ,रेडीमेड गारमेंट्स मंडल के अतुल गोयल, मोहित ,अंशुल, सचिन गोयल मनोज , विजय मंगला मंगलदीप , मनोज प्रमोद, लॉयन टेलर बबल सहित और भी व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधि शामिल हुए । विरोध प्रदर्शन करते हुए यह सभी हेलीमंडी नगरपालिका कार्यालय के सामने पहुंचे और यहां पर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के पुतले कोे जूते चप्पलों से माला पहनाई और उसके बाद में चीनी सामान के बहिष्कार का संकल्प लेते हुए पुतले को आग के हवाले कर दिया ।

इस मौके पर पवन अग्रवाल प्रधान कपड़ा व्यापार मंडल हेलीमंडी , मनीष रूस्तगी संरक्षक , बबल लायन टेलर , लव कुमार ने कहा कि चीन की शुरू से ही फितरत रही है कि वह कभी भी सामने से हमला नहीं करता है । जब भी उसने भारत की सीमा पर अतिक्रमण सहित  भारत की सेना हमला किया , वह धोखे से और कायरता पूर्ण तरीके से किया गया है । इतिहास इस बात का गवाह रहा है , हाल ही में भी चीन की सेना के द्वारा भारतीय सैनिकों पर कथित योजनाबद्ध तरीके से बर्बरता पूर्वक धोखे के साथ हमला किया गया , फिर भी भारत के वीर जांबाज सैनिकों के द्वारा चीन के सैनिकों को मुंहतोड़ जवाब देकर बता दिया गया कि भारत की सेना अब चीन की दादागिरी को और अधिक ना तो सहन करेगी नहीं चलने दिया जाएगा ।

व्यापारिक मंडल के प्रतिनिधियों ने सभी छोटे-बड़े दुकानदारों और व्यापारियों का आह्वान किया है कि आने वाला समय भारतीय संस्कृति के मुताबिक त्योहारी सीजन है और ऐसे मेंखरीद कर बाजार में बेचने के लिए नहीं ले कर के आए । क्योंकि किसी भी देश की रीढ़ को तोड़ना हो तो उसके लिए सबसे बड़ा और अचूक हथियार आर्थिक चोट पहुंचाना ही है । ऐसे में प्रत्येक भारतीय सहित सभी छोटे-बड़े व्यवसाई , दुकानदारों का भी दायित्व बनता है कि अब समय आ गया है हम सभी को अपने देश अपनी सेना के हित के बारे में और अधिक गंभीर होना पड़ेगा । इसका एकमात्र विकल्प यही है कि चीन को जितनी अधिक आर्थिक चोट पहुंचाई जाए वह कम है । इसलिए चीन में निर्मित सामान, अथवा चीन के द्वारा बनाए गए विभिन्न प्रकार के मोबाइल के गैजेट्स का भी बहिष्कार अविलंब करना चाहिए ।
और नया पुराने