भारतीय वाहन उद्योग के लिए पोर्टल पर हैं सभी समाधान उपलब्ध , पोर्टल आत्मनिर्भर भारत की दिशा में एक अहम कदम

आईसीएटी का परिसर स्थित है मानेसर में

मानेसर (गुरुग्राम)। 
भारत सरकार के भारी उद्योग विभाग (डीएचआई) ने विभिन्न क्षेत्रों के लिए देश में नवाचार, आरएंडडी और उत्पाद विकास को बढ़ावा देने के लिए एक मिशन शुरू किया है। इस मिशन के तहत प्रौद्योगिकी मंच के रूप में ई-पोर्टल विकसित किये जा रहे है जहां पर प्रौद्योगिकी विकास, सूचना विनिमय और नवाचार की सुविधा मिलेगी। 
इस बारे में जानकारी देते हुए आई सी ए टी मानेसर के निदेशक दिनेश त्यागी ने बताया कि भारी उद्योग विभाग के विशिष्ट क्षेत्रों के लिए विभिन्न संगठन पांच पोर्टल विकसित कर रहे हैं, जैसे बिजली क्षेत्र के उपकरणों के लिए बीएचईएल, मशीन टूल्स के लिए एचएमटी, विनिर्माण प्रौद्योगिकी के लिए सीएमएफटीआई तथा मोटर वाहन क्षेत्र के लिए आईसीएटी और एआरएआई।
उन्होंने बताया कि इन पोर्टलों का उद्देश्य एक पारितंत्र बनाना है जो समाधान की इच्छा रखने वालों और समस्या हल करने वालों को एक साथ लाएगा। इनमें उद्योग, शिक्षा जगत, अनुसंधान संस्थान, स्टार्ट-अप, पेशेवर और विशेषज्ञ शामिल हैं। श्री त्यागी के अनुसार आईसीएटी मोटर वाहन उद्योग के लिए टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म विकसित कर रहा है, जिसका नाम है- एस्पायर- ऑटोमोटिव सॉल्यूशंस पोर्टल फॉर इंडस्ट्री, रिसर्च एंड एजुकेशन। 
श्री त्यागी ने बताया कि इस पोर्टल का मुख्य उद्देश्य भारतीय मोटर वाहन उद्योग को आत्मनिर्भर बनाना है। इसके तहत विभिन्न हितधारकों को एक साथ लाकर नवाचार और वैश्विक तकनीकी प्रगति को अपनाने में भारतीय मोटर वाहन उद्योग को सुविधा प्रदान की जायेगी। गतिविधियों में उद्योग के लिए अनुसंधान और विकास, उत्पाद प्रौद्योगिकी विकास, तकनीकी नवाचार, तकनीकी और गुणवत्ता समस्या समाधान, विनिर्माण और प्रक्रिया प्रौद्योगिकी विकास, प्रौद्योगिकी विकास की चुनौतियां और भारतीय मोटर वाहन उद्योग के रुझानों की पहचान के लिए बाजार अनुसंधान और प्रौद्योगिकी सर्वेक्षण शामिल हैं।
उन्होंने कहा कि ई-पोर्टल एक प्रौद्योगिकी मंच के रूप में कार्य करेगा जो भारतीय मोटर वाहन उद्योग के लिए लगभग सभी समाधान उपलब्ध कराएगा, विभिन्न हितधारकों को एक साथ लाने में मदद करेगा और संयुक्त प्रयासों के साथ उद्योग को नए युग में प्रवेश के लिए आवश्यक प्रोत्साहन प्रदान करेगा। इसके तहत ऑटोमोटिव ओईएम, टियर 1 टियर 2 और टियर 3 कंपनियों, आरएंडडी संस्थानों और शिक्षाजगत (कॉलेजों और विश्वविद्यालयों) को प्रौद्योगिकी विकास के लिए एक प्लेटफार्म पर लाया जायेगा।
एक समाधान और संसाधन मंच के रूप में कार्य करने के अलावा, पोर्टल उद्योग की आवश्यकता के अनुरूप बड़ी चुनौतियों का समाधान करेगा और प्रमुख मोटर वाहन प्रौद्योगिकियों के विकास के लिए भी कार्य करेगा।
उन्होंने बताया कि एस्पायर पोर्टल आईसीएटी द्वारा तैयार किया गया है और पहले चरण के अंतर्गत 15 जुलाई, 2020 को इसका प्रथम संस्करण लॉन्च किया गया है। पोर्टल की वेब आईडी https://aspire.icat.in है। पहले चरण में कार्यक्षमता मूल्यांकन के लिए पोर्टल पर उपयोगकर्ताओं और विशेषज्ञों को जोड़ना शामिल है। 15 अगस्त, 2020 तक पोर्टल के द्वितीय चरण के शुरू होने की संभावना है। इसके तहत उद्योग की क्षेत्र आधारित चुनौतियां, टीम गठन और समस्याओं के निष्पादन के लिए परियोजनाओं को अंतिम रूप देना शामिल होगा। यह पोर्टल 15 सितम्बर, 2020 तक पूरी तरह से कार्य करने लगेगा। यह चुनौतियों के लिए समाधान के लिए कार्य करेगा, विस्तृत संसाधन डेटाबेस उपलब्ध कराएगा और परियोजना निगरानी व निष्पादन सम्बंधित कार्य करेगा।
भारत में मजबूत और आत्मनिर्भर मोटर वाहन उद्योग विकसित करने के लिए ये उपाय किये जा रहे हैं, जो केंद्र सरकार के मेक इन इंडिया और आत्मनिर्भर भारत विजन के अनुरूप है।

और नया पुराने