पेट दर्द पीड़ित व्यक्ति को पटौदी से किया गया था रेफर

दिल्ली सफदरजंग अस्पताल में एक ही दिन में तोड़ा दम

पटौदी इलाके में कोविड-19 संक्रमित की यह पहली मौत

फतह सिंह उजाला
पटौदी ।
 जिला गुरुग्राम में कोविड-19 के कुल पॉजिटिव केस में से 10 प्रतिशत से अधिक का औसत बीते कुछ दिनों से पटौदी ब्लॉक में सामने आ रहा है । एक दिन पहले ही जिला के कुल केस का करीब 14 प्रतिशत पॉजिटिव केस पटौदी ब्लॉक के शामिल थे । सोमवार से बुधवार के बीच 72 घंटे की बात करें तो पटौदी ब्लॉक में 40 केस पॉजिटिव जांच में सामने आ चुके हैं ।

लेकिन इस दौरान जो सबसे बड़ी खबर सामने आई वह यह है कि पटौदी के ही रहने वाले कोविड-19 संक्रमित मिले एक व्यक्ति की मौत हो गई । कथित रूप से मृतक व्यक्ति की जांच रिपोर्ट भी कोविड-19 पॉजिटिव ही सामने आई है। अब सवाल यह है कि जब नियमित अंतराल पर पटौदी ब्लॉक के साथ ही पटौदी पालिका और हेलीमंडी पालिका क्षेत्र में भी नियमित रूप से कोविड-19 के मामले सामने आ रहे हैं।  पटौदी ब्लॉक में कोविड-19 की मजबूत बनी चेन टूटने का नाम ही नहीं ले रही । तो स्थानीय प्रशासन के लिए चुनौती तो है ही आम आदमी के लिए भी चिंता का विषय बन गया है ।

जानकारी के मुताबिक मृतक व्यक्ति पटौदी नगर पालिका के वार्ड 14 का निवासी बताया गया है । करीब 42  वर्षीय यह व्यक्ति महेंद्रगढ़ कोर्ट में बतौर सफाई कर्मचारी काम करता था । सूत्रों के मुताबिक पेट दर्द की शिकायत होने पर यह उपचार के लिए पटौदी नागरिक अस्पताल पहुंचा था । हैरानी की बात तो यह है कि पीड़ित व्यक्ति के स्थानीय स्वास्थ्य विभाग के द्वारा जांच के लिए किसी प्रकार के सैंपल तक नहीं लिए गए और यहां से रेफर कर दिया गया । सूत्रों के मुताबिक उपचार के दौरान दिल्ली सफदरजंग अस्पताल में पीड़ित व्यक्ति ने दम तोड़ दिया । बड़ा खुलासा उस समय हुआ जब मृतक का शव परिजनों को नहीं सौंप कर दिल्ली प्रशासन अथवा दिल्ली सरकार के द्वारा अपनी देखरेख में ही दिल्ली में ही मृतक का अंतिम संस्कार किया गया । इसके बाद से यह शक और भी पुख्ता हो गया कि मृतक कोविड-19 पॉजिटिव हो सकता है ।

सूत्रों के मुताबिक मृतक की मौत और इसके अंतिम संस्कार के बाद पटौदी वार्ड 14 निवासी पीड़ित परिवार के सदस्यों के भी स्थानीय स्वास्थ्य विभाग के द्वारा जांच के लिए सैंपल लिए गए। इसमें सबसे बड़ी राहत की बात यह सामने आई कि मृतक के परिवार के सदस्यों के कोविड-19 जांच रिपोर्ट नेगेटिव सामने आई। लेकिन सवाल फिर वही की वही खड़ा है कि जब बारंबार लगातार पटौदी ब्लॉक के साथ-साथ पटौदी पालिका और हेलीमंडी पालिका क्षेत्र में कोविड-19 पॉजिटिव के सामने आ रहे हैं तो स्थानीय प्रशासन स्वास्थ्य विभाग संबंधित एरिया की जानकारी भी देने में कंजूसी भरत रहा है । इसका उलट प्रभाव लोगों के मुताबिक यह बताया जा रहा है कि आम आदमी को यही मालूम नहीं होता कि किस गली मोहल्ले में कोविड-19 पॉजिटिव मामला अथवा पीड़ित और उसका आवास है, ऐसे में गली , मोहल्ले, घर के आसपास लोगों का आवागमन रहता है । और अब जो बात सामने आ रही है और भी चैंकाने वाली है कि कोविड-19  वायरस हवा के द्वारा भी फैल सकता है । ऐसे में खतरा और भी गंभीर हो जाता है, वही ऐसी भी जानकारी सामने आ रही है कि कोविड-19 पॉजिटिव पीड़ितों को होम क्वारंटाइन किया जा रहा है। लेकिन होम क्वारंटाइन के दौरान पीड़ित व्यक्ति और परिवार के सदस्य कोविड-19 संक्रमण को गंभीरता से नहीं लेकर हल्के से लेने लगे हैं । ऐसे मामले की जानकारी यहां तक सामने आ रही है कि ऐसे व्यक्ति अथवा पीड़ित बेखौफ होकर गांव , गली, मोहल्ले के अलावा आसपास के इलाकों में भी बेखौफ होकर घूमते फिरते रहते हैं । ऐसी हरकतों से अन्य लोगों को अपने संक्रमित होने का भय सताता रहता है। पटौदी इलाके में कोविड-19 संक्रमित की पहली मौत का मामला सामने आने के बाद लोगों में एक अनदेखा खौफ बना दिखाई देने लगा है बेशक से लोग उस खौफ को महसूस नहीं होने दे रहे हैं ।

और नया पुराने