बीते 24 घंटे में दो की हुई मौत कुल मृतक 109 हुए

पटौदी में 10 सोहना में 16 और फरुखनगर में 4 केस

सिटी और देहात दोनों जगह नहीं टूट रही है चेन

फतह सिंह उजाला
पटौदी ।
 कोरोना कोविड-19 अब सीधे-सीधे शब्दों में कहा जाए तो सिटी में तो करोना  केस सामने आ ही रहे हैं , बलिक सिटी से बाहर देहात कहलाने वाले पटौदी , फरुखनगर और सोहना में कोरोना कोविड-19 संक्रमण की चेन लाख प्रयास के बावजूद भी नहीं टूट पा रही है । मंगलवार को देहात कहलाने वाले पटौदी ब्लॉक में कोरोना कोविड-19 के 10 नए केस, फरुखनगर ब्लॉक में 4 नए केस और सोहना ब्लॉक में 16 नए पॉजिटिव केस कोविड-19 के बीते 24 घंटे के दौरान दर्ज किए गए हैं ।

देहात कहलाने वाले इन तीनों ब्लॉक में कोरोना कोविड-19 के अभी तक के संक्रमित दर्ज हो चुके केस संख्या की बात की जाए तो पटौदी ब्लॉक में मंगलवार तक 434 पॉजिटिव केस दर्ज किए जा चुके थे । वही साथ लगते फरुखनगर में यह संख्या महज 140 तक ही सीमित है । इसके साथ ही सोहना ब्लॉक में अभी तक कोरोना कॉविड के कुल 282 केस दर्ज हो चुके हैं । देहात के इन तीनों ब्लॉक के अंदर किस ब्लॉक से कितने पॉजिटिव केस रिकवर होकर स्वस्थ हो चुके हैं, इस प्रकार की जानकारी बारंबार मांगने के बावजूद भी स्वास्थ्य विभाग और स्थानीय अधिकारी कंजूसी ही दिखाते आ रहे हैं । जिला गुरुग्राम में कोरोना कोविड 19 संक्रमण की चपेट में आने वाले दो लोगों की बीते 24 घंटे में मौत हो चुकी है। इस प्रकार से कोरोना कोविड-19 के कारण मृतकों की संख्या कुल 109 तक पहुंच गई है।

अब बात करते हैं मंगलवार को बीते 24 घंटे के दौरान नए दर्ज हुए कोरोना कॉविड 9 पॉजिटिव केस की। स्वास्थ्य विभाग के द्वारा जारी बुलेटिन के मुताबिक मंगलवार को 160 नए कोरोना के केस दर्ज हुए हैं। वही बीते 24 घंटे के दौरान 124 कोरोना होने वालों में शामिल हैं । जिला गुरुग्राम में अभी तक 7126 कोविड-19 के पॉजिटिव केस दर्ज किए जा चुके हैं ।  कुल केस में से 5962 संक्रमित व्यक्ति कोविड-19 को पराजित करके डिस्चार्ज भी हो चुके हैं । अब बात की जाए कोरोना कोविड-19 के एक्टिव केस की तो स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन में मंगलवार को बताया गया है कि जिला गुरुग्राम में 1085 कोरोना कॉविड 19 के एक्टिव केस अभी भी मौजूद हैं । सवाल यह है कि स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन युद्ध स्तर पर विभिन्न स्थानों पर कोरोना कोविड-19 की जांच के लिए कैंप लगाकर लोगों की जांच कर रहा है। स्वास्थ्य विभाग सहित जिला प्रशासन की यह एक अच्छी और सकारात्मक पहल लोगों को कोरोना कोविड-19 से बचाव के बीच में देखी जा रही है ।

लेंकिन जो सूचनाएं सामने आ रही है ,  बेहद चैक आने के साथ ही चिंता और चुनौती वाली भी हैं।विशेष रुप से ग्रामीण अंचल में , कोविड-19 के संक्रमित लोगों को स्वास्थ्य विभाग के द्वारा होम क्वॉरेंटाइन किया जा रहा है या इसके सख्त निर्देश देते हुए स्वास्थ्य विभाग की गाइडलाइन का पालन करने के लिए निर्देश भी दिए हुए हैं । लेकिन बार-बार लोगों के द्वारा शिकायत करते हुए जानकारी दी जा रही है कि जिन जिन गांवों में , पटौदी और हेलीमंडी पालिका क्षेत्रों में जहा-जहा भी कोरोना कोविड-19 के संक्रमित मामले सामने आए हैं और ऐसे लोगों को होम क्वॉरेंटाइन के निर्देश दिए गए हैं । लेकिन होम क्वॉरेंटाइन वाले कोविड-19 की जकड़ में जकड़े हुए लोग बेहिचक बेखौफ होकर खुलेआम यहां वहां घूमते रहते हैं । बाजारों में इनका आवागमन है । लोगों के बीच में पहुंचकर खरीदारी भी करते हैं, आम लोगों को यही नहीं मालूम होता कि क्या उनके आसपास अथवा भीड़ में कोई ऐसा व्यक्ति भी है जो कि कोरोना कॉविड 9 की चपेट में आया हुआ है । सूत्रों के मुताबिक सबसे मुख्य कारण यही है कि स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन के लाख  प्रयासों के बावजूद भी कोरोना कोविड-19 की चेन टूटने का नाम ही नहीं ले रही है ।

और नया पुराने