योगा, आयुर्वेद एवं इम्यूनिटी’ पर ऑनलाइन अंतरराष्ट्रीय वेबिनर का हुआ आज आयोजन 

अजय सागर अत्री,रेवाड़ी।
इंदिरा गांधी विश्वविद्यालय में ‘योगा आयुर्वेद एवं इम्यूनिटी’ विषय पर दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय ऑनलाइन वेबीनार आरंभ हुआ। कार्यक्रम के उद्घाटन समारोह के मुख्य अतिथि महेंद्रगढ़-भिवानी से लोकसभा सांसद चौधरी धर्मवीर जी रहे। जबकि भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय लखनऊ से डॉ० मधुलिका दुबे विशिष्ट अतिथि के रूप में ऑनलाइन माध्यम से उपस्थित रही।
कार्यक्रम में मुख्य वक्ता सेंटर फॉर योगा थेरेपी एजुकेशन एवं रिसर्च के निदेशक डॉ आनंद बाल योगी जी रहे।
इस वेबीनार का आयोजन इंदिरा गांधी विश्वविद्यालय के योग विभाग के द्वारा किया जा रहा है। इसमें 1063 प्रतिभागी देश के विभिन्न कोनों से भाग ले रहे हैं। जबकि देश विदेश से 14 विद्वान इसमें अपने वक्तव्य रखेंगे। कार्यक्रम के संयोजक एवं IGU मे योग विभाग के अध्यक्ष डॉ सुरजीत सिंह डबास द्वारा सर्वप्रथम सभी मेहमानों का स्वागत किया गया।
विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर एसके गक्खड़ ने कहा कि योग सभी परिस्थितियों में व्यक्ति को समभाव में रहना सिखाता है और इस प्रकार स्वस्थ मन, मस्तिष्क एवं शरीर के द्वारा वह किसी भी कठिन परिस्थिति का बड़ी आसानी से सामना कर सकता है।
मुख्य वक्ता डॉ आनंद बालयोगी ने कहा कि आज हमें अपनी सोच को बदलने की आवश्यकता है और सोच में सकारात्मकता लाना अत्यंत आवश्यक है। यदि हम वसुधैव कुटुंबकम की भावना के साथ जीते हैं तो कोई भी मानसिक आदि या शारीरिक व्याधि हमें परेशान नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि कोविड-19 को अपने आप में परिवर्तन लाने के एक अवसर के रूप में देखा जाना चाहिए ना कि इससे घबराना चाहिए।
सांसद चौधरी धर्मवीर सिंह ने कीटनाशक रहित, मिलावट रहित, स्वस्थ एवं शुद्ध खान-पान पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि आज यूरिया खाद एवं केमिकल का प्रयोग न करके ऑर्गेनिक खाद का प्रयोग करना चाहिए और पोस्टिक अनाज को अपने दैनिक भोजन में शामिल किया जाना चाहिए। आज हमें अपने मस्तिष्क को नियंत्रित करके चिंता रहित एवं प्रसन्न भाव से जीना सीखना ही होगा।
कुलसचिव डॉ अन्नपूर्णा शर्मा ने कहा कि हमें अपना ध्यान समस्या की तरफ नहीं बल्कि समाधान की तरफ लगाना होगा यदि  सकारात्मक भाव से समाधान का चिंतन करेंगे तो ऐसी कोई समस्या नहीं जिसका समाधान संभव ना हो सके।
कार्यक्रम में विश्वविद्यालय के शिक्षक एवं गैर शिक्षक स्टाफ के सदस्य एवं बड़ी संख्या में प्रतिभागियों ने विभिन्न ऑनलाइन माध्यमों जैसे जूम, यूट्यूब लाइव, फेसबुक लाइव आदि से जुड़ कर भाग लिया।
और नया पुराने