दिल्ली-जयपुर हाईवे सहित मानेसर के लिए रखी महत्वपूर्ण मांगे 

 20 हजार करोड़ की सड़क परियोजनाओं से बढ़़ा बड़े राव का कद  

फतह सिंह उजाला
गुरुग्राम/पटौदी ।
 एक दिन पहले ही केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी के द्वारा दक्षिणी हरियाणा सहित हरियाणा में 20000 करोड रुपए की विभिन्न सड़क पर योजनाओं की सौगात दी गई । अपने राजनीतिक गढ़ पटौदी, गृह जिला रेवाड़ी के साथ-साथ दक्षिणी हरियाणा के लिए करीब 15 सौ करोड रुपए की विभिन्न सड़क परियोजनाओं का शिलान्यास भी गडकरी के द्वारा किया गया ।

लेकिन इन करोड़ों रुपए की परियोजनाओं के बीच भी अहीरवाल सहित दक्षिणी हरियाणा के साथ-साथ आज के समय हरियाणा के सबसे वरिष्ठ राजनेता और केंद्र में मंत्री राव इंदरजीत सिंह अपना दांव खेल ही गए। सीधे-सीधे शब्दों में बड़े राव का यह गडकरी के सामने खेला गया एक बड़ा दांव ही है।  इसके साथ साथ विशेष रुप से पटौदी बाईपास, गुरुग्राम -पटौदी-रेवाड़ी फोरलेन सड़क मार्ग के साथ ही रेवाड़ी में बाईपास और नारनौल महेंद्रगढ़ इत्यादि क्षेत्रों में विभिन्न सड़क परियोजनाओं को मंजूर करवाने के साथ ही इनका शिलान्यास किया जाने के बीच इस बात में किसी को कोई शक नहीं होना चाहिए कि इन सड़क परियोजनाओं की बदौलत राव इंद्रजीत सिंह का राजनीतिक कद सूबे की राजनीति में और भी अधिक बढ़ गया है ।

जानकारों का मानना है बड़े राव धीर गंभीर होकर दीर्घकालिक परियोजनाओं पर ही प्राथमिकता देते हुए काम करते आ रहे हैं । यह ऐसी परियोजनाएं हैं जो एक बार फाइलों में दर्ज हो जाएं देर सबेर फाइलों से बाहर निकलकर इन परियोजनाओं को किस प्रकार धरातल पर लाना है, यह भी बड़े राव इंद्रजीत सिंह की राजनीतिक रणनीति का ही एक अहम हिस्सा माना जाता है । या फिर यूं भी कह सकते हैं कि परियोजनाओं की बिसात पर कब कहां कौन सी चाल किस समय चलनी है , उचित समय आने पर बड़े राव इंद्रजीत सिंह अपनी चाल चलने में माहिर खिलाड़ी का परिचय देते आ रहे हैं । इस बात में कोई शक नहीं है कि बड़ी परियोजनाएं आरंभ होने में समय लगना स्वाभाविक सी बात है । अब जब दक्षिणी हरियाणा में करीब 15 सौ करोड़ के साथ-साथ पूरे हरियाणा में 20000 करोड रुपए की विभिन्न सड़क परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया जा चुका है , तो इसका श्रेय कहीं ना कहीं केंद्रीय सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यावन राज्यमंत्री जिनके तहत नीति आयोग भी आता है का ेही दिया जा रहा है ।

अब बात करते हैं बड़े राव इंद्रजीत सिंह कि जो कि केंद्र में मंत्री हैं , वह दक्षिणी हरियाणा में 15 सौ करोड़ रुपए की विभिन्न सड़क परियोजनाओं को लेकर कथित रूप से संतुष्ट क्यों नहीं दिखे ? राव इंद्रजीत सिंह बीते काफी लंबे समय से दिल्ली जयपुर नेशनल हाईवे पर बिलासपुर चैक पर फ्लाईओवर बनाए जाने की वकालत करते आ रहे हैं । इसके साथ ही कापड़ीवास, बावल चैक पर भी फ्लाई और बनाने की वह बार-बार मांग करते आ रहे । इतना ही नहीं सोहना बादशाहपुर की तर्ज पर राव इंद्रजीत सिंह मानेसर में भी एलिवेटेड हाईवे की जरूरत को महसूस करता हुआ इसे जल्द से जल्द बनवाना चाहते हैं । मानेसर दिल्ली जयपुर नेशनल हाईवे पर गुरुग्राम का सबसे महत्वपूर्ण औद्योगिक क्षेत्र है । आईएमटी मानेसर में जानकारी के मुताबिक एलिवेटेड हाईवे पर योजना पर काम तो चल रहा है और उम्मीद की जा सकती है कि यह जल्दी ही धरातल पर साकार भी होगा।

राव इंद्रजीत सिंह अपने राजनीतिक गढ़ पटौदी में बनने वाले बाईपास के लिए भी लगातार केंद्र में मंत्री नितिन गडकरी से चर्चा करते रहे , समय-समय पर मांग भी उठाई । इसी प्रकार से अपने गृह जिला रेवाड़ी और साथ के बावल क्षेत्र के लिए भी उनके द्वारा सड़क परियोजनाओं की विभिन्न मांगे उठाई जाती रही हैं । अब केंद्र में पीएम मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा-दो सरकार के कार्यकाल के दौरान 1 वर्ष के अंदर ही दक्षिणी हरियाणा सहित पूरे हरियाणा में कुल 20000 करोड रुपए की सड़क परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया जाना इसका श्रेय कहीं ना कहीं राव इंद्रजीत सिंह लूटने में सफल दिखाई दे रहे है। क्योंकि राष्ट्रीय राजमार्ग का निर्माण केंद्र सरकार के अधीन है और योजनाएं चाहे विधानसभा क्षेत्र में बने या राज्य सचिवालय में बने । इन योजनाओं को अमलीजामा बनाने के लिए केंद्र के पास ही भेजा जाता है और जब तक केंद्र में पैरवी करने के लिए संबंधित राज्य से मजबूत पैरोकार ना हो तो योजनाएं भी फाइलों से बाहर निकलने में कई बार हिचक ने लगती हैं । लेकिन जानकारों के मुताबिक बड़े राव इंद्रजीत सिंह बड़ी परियोजनाओं को धरातल पर लाने के लिए एक योजनाबद्ध तरीके से काम करते हुए कुशल खिलाड़ी की तरह अपना लक्ष्य भेदते आ रहे हैं । अब इस बात में कोई गुंजाइश दिखाई नहीं दे रही है कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के द्वारा दक्षिणी हरियाणा के साथ-साथ संपूर्ण हरियाणा में सड़कों का जाल बिछाने और इनका उद्घाटन किया जाने के साथ ही बड़े राव इंद्रजीत सिंह का राजनीतिक कद भी निश्चित रूप से बढ़ा है ।

गुरूग्राम से शुरू होकर पटौदी होते हुए रेवाड़ी तक बनने वाले इस हाईवे के निर्माण कार्य को दिसंबर 2022 तक पूरा किया जाएगा। यह राजमार्ग राष्ट्रीय राजमार्ग नंबर 352डब्ल्यू का हिस्सा है जिसकी लंबाई लगभग 46.11 किलोमीटर की है। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) इस हाईवे का निर्माण करेगा जिसके रास्ते में 99 कलवर्ट, 12 छोटे पुल, एक छोटे वाहनो अथवा पैदल यात्रियों के लिए अंडरपास, वाहनो के 13 अंडरपास के अलावा, दो फलाईओवर तथा एक आरओबी आएंगे जिनका निर्माण भी इस परियोजना का हिस्सा है।  इन  हाईवे पर लगभग 4500 करोड़ रूपए की लागत आएगी और जमीन अधीग्रहण की लगभग 2300 करोड़ रूपए की राशि किसानों को मिलेगी। कोरोना वायरस संक्रमण के इस दौर में इतनी राशि मिलने से इस क्षेत्र में आर्थिक गतिविधियों को बढावा मिलेगा। इसके अलावा, जिला महेंद्रगढ़ में बनने वाले लाॅजिस्टिक हब को भी इस हाईवे का लाभ मिलेगा। 

और नया पुराने