टिड्डी  संबंधित सूचना मिलने पर  प्रशासन को अवगत करवाएं

  पड़ोसी राज्य के अलावा प्रदेश के जिलों में आक्रमण की खबरें


फतह सिंह उजाला
गुरुग्राम ।  उपायुक्त अमित खत्री ने किसानों से आग्रह किया है कि वे टिड्डी दल से अपनी फसलों को बचाने के लिए सावधानी बरतें और निगरानी रखें। किसान कृषि विभाग के साथ तालमेल बनाए रखें और टिड्डी दल से संबंधित सूचना मिलने पर तुरंत प्रशासन को अवगत करवाएं।

उन्होंने कहा कि टिड्डी का प्रकोप एक प्राकृतिक आपदा है, जिसकी पड़ोसी राज्य के अलावा प्रदेश के जिलों में आक्रमण की खबरें प्राप्त हो रही हैं। ऐसे में कृषि विभाग को टिड्डी दल के हमले के संभावित क्षेत्रों में समुचित मात्रा में दवा उपलब्ध करवाने और गांव स्तर पर किसानों को दवा के छिड़काव की मात्रा की जानकारी बारीकी से देने बारे कहा है। 

जिला स्तर पर टिड्डी दल से बचाव को लेकर आवश्यक प्रबंध किए जाने सुनिश्चित किए गए हैं। उन्होंने बताया कि जिला में टिड्डी नियंत्रण हेतु व्यापक प्रबंध हैं। श्री  गोदारा ने बताया कि टिड्डी दल का आर्थिक कागार 10 हजार प्रति हैक्टेयर यानि एक टिड्डी प्रति वर्ग मीटर या 5-6 टिड्डी प्रति झाड़ी हो सकता है। टिड्डी दल सवेरे 10 बजे के बाद ही अपना डेरा बदलता है। अतः इन्हें समय रहते नियंत्रण करना अति आवश्यक है। किसान भाई अपनी फसल की सुरक्षा हेतु टिड््डी दल के लिए प्रतिदिन निगरानी अवश्य रखें। उन्होंने किसानों से अपील करते हुए कहा कि टिड्डी दल दिखाई देने पर किसान थाली, ढोल , नगाड़े व खाली पीपो की आवाज करके टिड्डी दल को बैठने से रोक सकते हैं व कीटनाशकों के प्रयोग द्वारा ही इसे काबू पाया जा सकता है। उन्होंने किसानों से अपील करते हुए कहा कि वे कीटनाशक का प्रयोग टिड्डी दल के ठहराव के समय ही करें। किसान हवा की दिशा से 90 डिग्री में चलते हुए हवा की दिशा में स्प्रे करते चलें।
 
श्री गोदारा ने कहा कि किसानों को जैसे ही जिला गुरूग्राम में टिड्डी दल दिखाई दे तो तुरंत इस बारे में अपने खंड कृषि अधिकारी या कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के उपनिदेशक या उपमंडल कृषि अधिकारी के कार्यालय में संपर्क करें। उन्होंने बताया कि सहायक पौधा संरक्षण अधिकारी को मोबाइल नंबर- 9416212838, उपमंडल कृषि अधिकारी का नंबर-9416424053 तथा तकनीकी सहायक का मोबाइल नंबर- 7988786810 है।


किसानों  व प्रशासन की सक्रियता से बचाव 
श्री गोदारा ने कहा कि बीते दिनों टिड्डी दल गुरूग्राम जिला के उपर से होकर गुजरा था और यह प्रशासन व किसानों की सजगता का ही परिणाम रहा है किसी भी रूप से अधिक नुकसान किसानों की फसलों को नहीं हुआ। कृषि विभाग की ओर से से फायर टेंडर सहित ट्रैक्टर पर पंपिंग सैट तैयार किए गए हैं वहीं किसान भी अपने छिड़काव के पंप आदि तैयार रखें ताकि जरूरत पडने पर उनका प्रयोग किया जा सके। कृषि विभाग के उप निदेशक आत्माराम गोदारा ने बताया कि कृषि विभाग टिड्डी दल के प्रकोप से बचाव हेतू अपडेट है। विभाग के अधिकारी व कर्मचारी सतर्क किए गए हैं, जो गांवो में लोगों को टिड्डी के प्रकोप से बचाव के लिए बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में जागरूक कर रहे हैं।
और नया पुराने