मनीषबलवान सिंह जांगड़ा, हिसार
देशभर में फाइनल ईयर के छात्रों के लिए बड़ी ख़बर आई है । गृह मंत्रालय ने देशभर की यूनिवर्सिटीज व संस्थानों में फाइनल ईयर के छात्रों के एग्जाम करवाने का फ़ैसला किया है। गृह मंत्रालय की तरफ से जारी किये प्रेस नोट में अनिवार्य रूप से फाइनल ईयर के एग्जाम यूजीसी की गाइडलाइंस के मुताबिक करवाने का आदेश दिया है। स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से एसओपी( स्टैण्डर्ड ऑपरेशन प्रोसीजर) जारी करने का आदेश दिया है।
गौरतलब है की एग्जाम होने या न होने को लेकर सन्देह बना हुआ था अब यूजीसी की गाइडलाइंस का इंतज़ार है।


गाइडलाइंस में ये सब बातें कही गई है।


कोरोना वायरस जैसी महामारी के बीच छात्रों की सेहत, सुरक्षा बेहद अहम है. साथ ही करियर, अकेडमिक क्रेडिबिलिटी और भविष्य भी जरूरी है। ऐसे में एजुकेशन सिस्टम में मूल्यांकन बेहद अहम हो जाता है। परीक्षाओं छात्रों को संतुष्टि और भरोसा देंगी जो ग्लोबल एक्स्पेटेंस के लिए जरूरी हैं।

फाइनल ईयर या सेमेस्टर की परीक्षाएं यूनिवर्सिटी और इंस्टीट्यूट सितंबर के आखिरी में कराएंगे। ये ऑफलाइन और ऑनलाइन मोड में कराए जा सकते हैं।

फाइनल के वो छात्र जिनका बैकलॉग है, उनके लिए परीक्षाएं ऑनलाइन या ऑफलाइन मोड में कराई जाएंगी, जैसा सुविधाजनक हो।

अगर किसी छात्र की फाइनल ईयर या सेमेस्टर की परीक्षा किसी कारणवश रह जाती है। ऐसे में उसे कोर्स या पेपर के लिए दोबारा मौका दिया जाएगा। ऐसा यूनिवर्सिटी या इंस्टीट्यूट अपनी सुविधा के हिसाब से करेगा. जिससे कि छात्र को कोई नुकसान न हो। ऐसा सिर्फ सत्र 2019-20 के लिए,एक बार होगा।

29 अप्रैल को जो गाइडलाइन जारी हुए थे वो बाकी सभी सेमेस्टर के लिए वैसे के वैसे ही रहेंगे।
और नया पुराने