जीआरपी चैकी प्रभारी भूपेंद्र सिंह ने बताएं दुष्परिणाम

आम लोगों से नशा विरोध का किया आह्वान

फतह सिंह उजाला
पटौदी ।
 जीआरपी पटौदी पुलिस के द्वारा नशा विरोधी अभियान चलाया गया । इस अभियान के तहत आम जनमानस को विभिन्न प्रकार के नसों के दुष्परिणाम के बारे में जानकारी दी गई । पटौदी रेलवे स्टेशन परिसर के बाहर पटौदी जीआरपी चैकी के प्रभारी भूपेंद्र सिंह ने मौके पर मौजूद लोगों को समझाते हुए कहा कि नशा जीवन का नाश करने वाला ऐसा माध्यम है कि नशे में नशे का आदी होने के बाद इसे छोड़ पाना सभी के लिए संभव नहीं हो पाता है। यह नशा विरोधी अभियान जीआरपी थाना प्रभारी गुरुग्राम परमानंद के मार्गदर्शन में चलाया गया और इसके सकारात्मक परिणाम भी सामने आने लगे हैं ।


उन्होंने लोगों का आह्वान किया कि नशा कोई भी हो , इसके सेवन से बचना चाहिए और यदि आसपास या फिर कोई जानकार भी किसी भी प्रकार का नशा करता है तो उसे नशा करने से रोक कर समाज और राष्ट्र हित में अपना फर्ज अदा करना चाहिए । इसी मौके पर उन्होंने आम लोगों से यह भी आह्वान किया कि कोरोना कोविड-19 जैसी महामारी के फैलने को ध्यान में रखते हुए तो किसी भी प्रकार के नशे विशेष रूप से शराब, अफीम, चरस, गांजा या अन्य और कोई नशा भूल कर भी नहीं करना चाहिए और ना ही किसी को करने दें । यदि कहीं कोई किसी भी प्रकार के नशे का सामान बेच रहा हो तो अपने आसपास की पुलिस को इस मामले की बिना देरी किए जानकारी भी दी जानी चाहिए ।

जिससे कि सामाजिक बुराई बन चुके नशे पर लगाम कसी जा सके । उन्होंने कहा कि किसी भी अनजान आदमी से कोई भी खाने पीने की चीज लेकर उसका बिना सोचे समझे सेवन करने से बचें । जीआरपी चैकी प्रभारी भूपेंद्र सिंह ने कहा कि नशा सही मायने में किसी भी परिवार की आर्थिक स्थिति को भी बुरी तरह से प्रभावित करता है और जिस किसी भी परिवार में कोई नशे का आदी हो तो वहां पर बिना वजह के लड़ाई झगड़े होने की भी संभावना बनी रहती है । वास्तव में नशा एक सामाजिक बुराई है और इस सामाजिक बुराई को हम सभी मिलकर ही रोक सकते हैं । 
और नया पुराने