संडे को पटौदी ब्लॉक में रिकॉर्ड नए 16 पॉजिटिव केस  

पटौदी ब्लॉक में अभी तक संक्रमित आंकड़ा 248 पहुंचा

हेलीमंडी नगर पालिका में भी जड़ जमा रहा है कोरोना

फतह सिंह उजाला
पटौदी ।
  जिला गुरुग्राम में, गुरुग्राम सिटी के बाद में पटौदी ब्लॉक तेजी से कोरोना कोविड-19 का हॉट स्पॉट बनता जा रहा है । यहां संडे को जिला गुरुग्राम के कुल कोविड-19 पॉजिटिव केस का 5 प्रतिशत पॉजिटिव केस पटौदी ब्लॉक में सामने आए हैं ।जोकि निश्चित ही बहुत बड़ी चिंता का विषय और चिंतन मंथन का कारण बन गया है । पटौदी ब्लॉक में अभी तक कोविड-19 के संक्रमित आंकड़े की बात करें तो यह है करीब 250 तक पहुंच चुका है ।

पटौदी ब्लॉक में करीब 72 गांव शामिल है, इनमें पटौदी नगर पालिका और हेलीमंडी नगर पालिका क्षेत्र भी शामिल है । बीते एक पखवाड़े के दौरान पटौदी ब्लॉक में मानेसर सहित औसतन एक दर्जन केस रोजाना पॉजिटिव सामने आ रहे हैं । संडे को तो पटौदी ब्लॉक में एक प्रकार से कोरोना कोविड-19 का धमाका हुआ । जब एक साथ पटौदी ब्लॉक में 16 पॉजिटिव केस सामने आए हैं । इनमें से एक केस पीएचसी बोहड़ाकला से संबंधित बताया गया है । एक केस पीएचसी हेलीमंडी से संबंधित बताया गया है । एक केस पीएचसी भांगरोला से संबंधित बनाया गया है । तीन केस पटौदी ब्लॉक के बताए गए हैं । बाकी पॉजिटिव केस मानेसर क्षेत्र के बताए गए हैं । यहां ध्यान देने की बात यह है कि मानेसर भी पटौदी विधानसभा क्षेत्र का ही महत्वपूर्ण औद्योगिक हिस्सा है ।

हेली मंडी नगर पालिका क्षेत्र की बात करें तो यहां वार्ड 2 में एक ही परिवार में तीन कोविड-19 के संक्रमित मामले सामने आए, इनमें दो मामले तो शनिवार को ही सामने आए है। पटौदी नगर पालिका क्षेत्र की बात करें तो यहां भी विभिन्न वार्डों में नियमित अंतराल पर कोविड-19 पॉजिटिव के के सामने आ रहे हैं । संडे को पूरे जिला के अंदर कुल 88 नए पॉजिटिव केस दर्ज किए गए और इन 88 पॉजिटिव केस में से अकेले 16 पॉजिटिव नए केस पटौदी ब्लॉक के शामिल हैं । यह पटौदी के प्रशासन , स्वास्थ्य विभाग, पटौदी नगर पालिका , हेलीमंडी नगरपालिका के साथ-साथ स्थानीय खंड विकास एवं पंचायत विभाग के लिए भी गंभीर चुनौती से कम भी नहीं है । अब बात की जाए की आखिर ऐसा क्या कारण है कि पटौदी ब्लॉक जिला मुख्यालय के अतिरिक्त कोविड-19 पॉजिटिव केस का हॉट स्पॉट बनता जा रहा है ? जानकारों के मुताबिक कथित रूप से पटौदी ब्लॉक में लापरवाही अधिक बढ़ती जा रही है ।

आम जनमानस में सबसे अधिक हैरानी इस बात को लेकर है कि जब कोविड-19 के पॉजिटिव केस सामने आने आरंभ हुए थे , उस समय जो फुर्ति-सफुर्ति दोनों पालिका क्षेत्र और ग्रामीण अंचल में सैनिटाइजेशन किया जाने को लेकर दिखाई गई थी , वह अब हवा हवाई हो चुकी है । इसके अलावा अनलॉक के करीब 1 माह होने के बाद भी मिली छूट का कोविड-19 से बचाव के लिए सही प्रकार से लोगों के द्वारा अपने और आसपास के लोगों के हित में सही प्रकार से इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है । हालांकि बिना मास्क लगाए आम लोगों सहित दुकानदारों के चालान करके जुर्माना वसूला गया, लेकिन यह कोविड-19 संक्रमण को फैलने से बचाने के लिए उतना अधिक कारगर अथवा रिजल्ट ओरिएंटेड नहीं रहा । जितनी की अपेक्षा की जा रही थी ।
जानकारों की माने तो अब समय आ गया है कि पटौदी ब्लॉक में स्थानीय प्रशासन के अतिरिक्त जिला प्रशासन को कठोर से कठोर कदम उठाने होंगे । अन्यथा जिस औसत से पटौदी ब्लॉक में कोविड-19 के कसे सामने आ रहे हैं , इस बात से इंकार नहीं की गुरुग्राम सिटी और पटौदी ब्लॉक के बीच आने वाले समय में कहीं यह अंतर एक जैसा ना बन जाए । सबसे अधिक जरूरत बरसाती मौसम को देखते हुए जल जनित रोगों को रोकने की पहल के साथ जिस प्रकार से कोविड-19 के मामले सामने आ रहे हैं, पटौदी और हेलीमंडी नगरपालिका के सभी वार्डों के अलावा पटौदी ब्लॉक के प्रत्येक गांव में सघन सैनिटाइजेशन किया जाने की नितांत आवश्यकता महसूस होने लगी है ।
और नया पुराने