सादगी से मनाया गया गुरू पूर्णिमा महोत्सव

फतेह सिंह उजाला
पटौदी।
 गुरू चरणों से श्रेष्ठ कोई स्थान नहीं  हो सकता है। सांसारिक रिश्तों से नाता तोड़ने के बाद अध्यात्म की दुनिया में गुरू ही शिष्य के लिए सर्वोपरी होता है। यह बात मंहत लक्ष्मणदास गो सेवा सदन और महाकाल मंदिर बोहड़ाकला के महंत एव अज्ञातवास के लिए प्रस्थान कर चुके महामंडलेश्वर स्वामी ज्योति गिरि के शिष्य मंहत बिठ्ठल गिरि ने गुरू पूर्णिमा और चंद्र ग्रहण के मौके पर कही।

रविवार को बोहड़ाकला स्थित हनुमान मंदिर-महाकाल मंदिर में गुरू पूर्णिमा महोत्सव बेहद सादगी के साथ मनाया गया। इस मौके पर विद्या गिरि, कृष्ण गिरि, शंभू गिरि, कमल पुरी, पंडित राधे श्याम ने श्रद्धा पूवर्क महामंडलेश्वर ज्योति गिरि की चरण पादुका को साक्षत गुरू महामंडलेश्वर ज्योति गिरि मान कर पूजा अर्चना कर आशिर्वाद लिया। मंहत बिठ्ठल गिरि ने कहा कि, घर-परिवार, मां-पिता सहित रिश्तेनातेदारी को त्यागने के बाद संन्यास जीवन का कल्याण केवल गुरू के द्वारा ही संभव है। शिष्य के लिए गुरू चरणों से श्रेष्ठ अन्य कोई भी स्थान ब्रहमांड ने नहीं हो सकता है।

अध्यात्मिक और संन्यासी जीवन भी सांसारिक जीवन के मुकाबले कई गुणा कठिन और कोंटो भरा ही होता है। शिष्य की निष्ठा ही सबसे बड़ी और कठिन परीक्षा भी होती है। निष्ठा, विश्वास और आस्था ही वह माध्यम है तो कि किसी भी शिष्य को हमेशा गुरू और भगवान के साथ और पास होने का अहसास कराते है। गुुरू के चरण और चरणों की रज ही शिष्य के लिए सबसे बड़ी धरोहर होती है। गुरू के चरणों में झुकते ही जो आशिर्वाद गुरू के द्वारा दिया जाता है, उसको शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता है।

और नया पुराने